Friday, June 9, 2017

पराशर झील - जब एडवेंचर सजा बन गया (फोटो स्टोरी, भाग -3), Prashar Lake - When the adventure becomes trouble (Photo Story, Part - 3)

2 मार्च 2015
ऑंखें खोलने से पहले कल के चुनौतीपूर्ण दिन को श्रधांजलि दी । बाहर किरणें निकल आई हैं और भीतर उम्मीदों का सूरज । उठते ही तीनों ने जो आपस में बांटी वो थी “सच्ची मुस्कान” । सूरज की किरणों पर फिसलती छोटी, भोली, प्यारी, बस एक “कट्टो मुस्कान” । सूरज की गर्मी, बर्फ की ठंडक, पहाड़ों की कतार, पेड़ों की रौनक, आज सबकुछ सजीव लग रहा है, आज सब ताजा हो गया है, आज हम जिंदा हो गये हैं ।

Saturday, June 3, 2017

पराशर झील - जब एडवेंचर सजा बन गया (फोटो स्टोरी, भाग -2), Prashar Lake - When the adventure becomes trouble (Photo Story, Part - 2)

1 मार्च 2015
मंडी से खड़ी चढ़ाई, लैंड-स्लाइड, बारिश और अब बागी के बस स्टैंड में 2 टैंटों में हम 3 । शाम को पास की एकमात्र दुकान पर जब हमने डिनर किया तभी स्थानियों ने हमें चेतावनी दे दी कि “ऐसे खराब मौसम में आगे जाना खतरनाक होगा” । हम खाते-खाते उनकी चेतावनियाँ सुनते रहे और अब बिना एडवेंचर के वापस जाना हमारे साथ जात्ती होगी ।